Trending

fertilizers: किसानो के लिए बहुत खुस खबरी 5 जुलाई 2023 से रासायनिक उर्वरकों की कीमतें कम हो गईं..ये हैं यूरिया, डीएपी उर्वरकों की नई कीमतें

fertilizers नमस्कार, आज हम आपको रासायनिक खाद, यूरिया की घटी कीमतों, डीएपी खाद की नई कीमतों के बारे में बताने जा रहे हैं।

Agricultural कृषि के लिए रासायनिक उर्वरक बहुत महत्वपूर्ण हैं। यह फसलों को पोषक तत्व प्रदान करता है, मिट्टी का संरक्षण करता है, उपज बढ़ाता है। लेकिन, ये उर्वरक न केवल बहुत महंगे हैं बल्कि पर्यावरण के लिए भी हानिकारक हैं। इसलिए, सरकार ने फैसला किया कि वे इन उर्वरकों को सस्ता करके किसानों की मदद करने जा रहे हैं।

इस दिन अपने बैंक अकाउंट में आयेंगे 4000 रु

यहां क्लिक करके देखिए फिक्स तारीक

1 जुलाई 2023 से सरकार ने सभी उर्वरकों यूरिया, डीएपी, म्यूरेट ऑफ पोटाश (एमओपी) और कॉम्प्लेक्स (एनपीके) को सस्ता कर दिया है। इन कीमतों में 50% से ज्यादा की कमी की गई है तो आइए उर्वरकों की कीमतें इस प्रकार देखते हैं।

ये कीमतें (एमआरपी) इस प्रकार होंगी:

  • यूरिया: ₹ 242/50 किग्रा (₹ 484/100 किग्रा) – ₹ 5,922/100 किग्रा (₹ 2,961/50 किग्रा) से 91.8% कम
  • डीएपी: ₹ 1,200/50 किग्रा से 90% कम (₹ 2,400/100 किग्रा) – ₹ 24,000/100 किग्रा (₹ 12,000/50 किग्रा)
  • एमओपी: ₹ 1,177.5/50 किग्रा (₹ 2,355/100 किग्रा) – ₹ 17,500/100 किग्रा (₹ 8,750/50 किग्रा) से 86.5% कम
  • एनपीके: ₹ 925/50 किग्रा (₹ 1,850/100 किग्रा) – ₹ 18,000/100 किग्रा (₹ 9,000/50 किग्रा) से 89.7% कम

3एचपी, 5एचपी और 7.5एचपी के सोलर कृषि पंपों की नई दरें

देखने के लिए यहां क्लिक करें

इन कीमतों का भुगतान सरकार द्वारा रियायती कीमतों के रूप में किया गया था। अंकित मूल्य (एमआरपी) अंकित मूल्य + जीएसटी + माल ढुलाई + डीलर कमीशन + हैंडलिंग शुल्क + अन्य शुल्क + लाभ मार्जिन = एमआरपी है। Agricultural

ये प्रसिद्ध कीमतें (एमआरपी) इस प्रकार होंगी:

यूरिया: ₹ 295/50 किग्रा (₹ 590/100 किग्रा)
डीएपी: ₹ 1,500/50 किग्रा (₹ 3,000/100 किग्रा)
एमओपी: ₹ 1,500/50 किग्रा (₹ 3,000/100 किग्रा)
एनपीके: ₹ 1,200/50 किग्रा (₹ 2,400/100 किग्रा)

फ्रि सोलार चुल्हा योजना का आवेदन कैसे करे इसकी

जानकारी के लिए यहां क्लिंक करें

fertilizers ये कीमतें किसानों के लिए काफी फायदेमंद हैं. इससे उन्हें उर्वरक के उपयोग में बचत करने, पैदावार बढ़ाने और पर्यावरण के लिए भी अच्छा होने में मदद मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button