Trending

Edible Oil Price: आम आदमी को बड़ी राहत, खाद्य तेल के दाम में रिकॉर्ड कटौती; 15 लीटर स्टील का कैन ही उपलब्ध है..

Edible Oil Price: बढ़ती महंगाई की मार झेल रहे आम नागरिकों को राहत मिल रही है क्योंकि एक साल बाद खाद्य तेल के दाम सस्ते हो गए हैं। इससे गृहिणियों को महीने के अंत में बचत की गुंजाइश मिल रही है। किचन का बजट बिगड़ने से बच गया है. तेल की कीमतों में गिरावट की वजह से ग्रामीण इलाकों में खुदरा तेल की बिक्री के बजाय 15 लीटर के डिब्बे की बिक्री में इजाफा हुआ है.

15 लीटर के डिब्बे की बिक्री में गिरावट

यहां क्लिक करके देखिए कीमत

अंतरराष्ट्रीय बाजार में खाद्य तेल की आपूर्ति श्रृंखला पिछले साल यूक्रेन-रूस युद्ध से बाधित हो गई थी। अब यह लगभग सामान्य हो गया है। इसके अलावा, खाद्य तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार International market में मांग और देश में तिलहन के कुल उत्पादन पर निर्भर करती है।

जानकारों की राय है कि इस साल अंतरराष्ट्रीय बाजार International market में उथल-पुथल नहीं होने के कारण तेल की कीमतों में गिरावट आ रही है. एक तरफ जब महंगाई बढ़ रही है तो तमाम आम लोगों की कमर टूट गई है। खाद्य तेलों के दाम में कुछ राहत मिली है। यह लगातार गिरावट पिछले दो महीने से देखने को मिल रही है।

अच्छी खबर।!! “इन” नागरिकों के खाते में आ रहे हैं 1 लाख 60 हजार रुपये,

लिस्ट में देखें अपना नाम |

यहां के एक होटल व्यवसायी गायकवाड़ ने कहा कि तेल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण कुछ खाद्य पदार्थों के दाम बीच में बढ़े थे, लेकिन तेल की कीमतों में कमी के कारण खाद्य पदार्थों की कीमतें अब अपने पिछले स्तर पर लौट आई हैं. साथ ही तेल की बढ़ती कीमतों के कारण बड़े सुख-दुख समारोह में खाने का खर्च बढ़ गया था. अब इसमें कमी आई है तो आम नागरिकों को राहत मिली है। Edible Oil Price

बिक्री में वृद्धि..!

जैसा कि पिछले दो महीनों से खाद्य तेल की कीमतों में गिरावट जारी है, हालांकि तेल की बिक्री बढ़ सकती है, तेल की कीमतों में कई बार गिरावट आई है क्योंकि तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव का असर पहले से खरीदे गए तेल पर पड़ा है। दिनेश पारख, निदेशक पारख ट्रेडर्स, चितली Edible Oil Price

आधार कार्ड से ₹50,000 का लोन

यहां सिर्फ 5 मिनट में करें अप्लाई

रेट आम जनता तक पहुचना चाहिए..!The rate should reach the general public..!

Edible Oil Price जब तेल उत्पादक, तेल रिफाइनर द्वारा वितरक को वितरित किया जाता है, तो बिक्री मूल्य कम हो जाता है। तो इसका फायदा हर ग्राहक की जेब को मिलना चाहिए। इसके लिए जरूरी है कि खाद्य एवं प्रशासन विभाग सतर्क रहे और टैरिफ व मिलावटी तेल पर पैनी नजर रखे.

पीएम किसान 14 हफ्ते के 2,000 की जगह 4,000 मिलेंगे,

लिस्ट में अपना नाम देखने के लिए यहां क्लिक करें.

तिलहन का रिकॉर्ड उत्पादन..! Record production of oilseeds..!

साल 2022-23 में सोयाबीन और कपास की फसल को सबसे ज्यादा बाजार भाव मिला। परिणामस्वरूप तब से तिलहन क्षेत्र में भारी वृद्धि हुई है। रिकॉर्ड उत्पादन हुआ, जिसके परिणामस्वरूप कुछ हद तक कम मांग और उच्च आपूर्ति की स्थिति बनी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});